Tuesday, January 8, 2013


पूस की रात
                                  विट्ठ्ल नायक
उपन्यास साम्राट मुन्शी प्रेमचन्द हिन्दी कहानी साहित्य के मूर्धन्य कहानी कार हैं । आपका जन्म ३१जुलाई, सन १८८० ई. में हुआ । आपका असली नाम धनपतराय था । उन्हें बचपन में बडी कठिनाइयों का सामना करना पडा । पहले नवाबराय के नाम के नाम से कहानियाँ लिखते थे । आपने हिन्दी में लगभग तीन सौ कहानियाँ लिखीं । आप कहानीकार, उपन्यासकार, निबन्ध लेखक और संपादक भी थे । ८ अक्टूबर सन१९३६ ई. में आपकी मृत्यु हुई ।
मुख्य कृतियाँ -सेवा सदन, प्रेमाश्रम, रंगभूमि, निर्मला आदि उपन्यास है । शतरंज के खिलाडी, नमक का दारोगा आदि ३००सौ कहानियाँ हैं ।
कहानी का सारांश –
कहानी ‘पूस की रात’ में हल्कू के माध्यम से कहानी कार ने भारतीय किसान की लाचारी का यथार्थ चित्रण किया है । बहुत साल पहले की बात है । उत्तर भारत के किसी एक गाँव में हल्कू नामक एक गरीब किसान अपनी पत्नी के साथ रहता था । किसी की जमीन में खेती करता था । पर आमदानी कुछ भी नहीं थी । उसकी पत्नी खेती करना छोडकर और कहीं मजदूरी करने कहती थी ।
हल्कू के लगान के तीर पर दूसरों की खेती थी । खेते के मालिक का बकाया था । हल्कू ने अपनी  पत्नी से तीन रुपए माँगे । पत्नी ने देने से इनकार किया, ये तीन रुपिए जाडे की रातों से बचने केलिए, कंबल खरीदने के लिये जमा करके रखे थे । मालिक के तगादे और गालियों से डरकर उसने वे तीन रुपिए निकलकर दे दिए । जमिंदार रुपिए लेकर चला गया ।
पूस मास आ गया । अंधेरी रात थी । कडाके की सर्दी थी । हल्कू अपने खेत के एक किनारे ऊख के पत्तों की छतरी के नीचे बाँस के खटोले पर पडा था । अपनी पुरानी चादर ओडे ठिठुर रहा था । खाट के नीचे उसका पालतू कुत्ता जबरा पडा कुँ-कूँ कर रहा था । वह भी ठण्ड से ठिठुर रहा था । हल्कू को उसके हालत पर तरस आ रहा था । उसने जबरा से कहा-‘तू अब ठंड खा, मैं क्या करुँ ? यहाँ आने की क्या जरुरत थी ?’ हल्कू बहुत देर तक कुत्ते से बातें करता रहा । जब ठंड के कारण उसे नींद नहीं आई, तब कुत्ते को अपने गोद में सुला लिया । उसके शरीर के गर्मी से हल्कू को सुख मिला । कुछ घण्टे बीत गये । कोई आहट पाकर जबरा उठा और भौंकने लगा । उसे अपने कर्तव्य का मान था ।
हल्कू के खेत के समीप ही आमों का बाग था । बाग में पत्तियों का ढेर किया, पास के अरहर के खेत में जाकर कई पौधे उखाड के लाया । उसे सुलगाया और अपने खेत में आकर वहाँ के पत्तियों को भी सुलगाया । हल्कू और कुत्ते दोनों आग तापने लगे । ठंड की असीम शक्ति पर विजय पाकर वह विजय गर्व को ह्रदय में छिपा न सकता था । वह कंबल ओढकर सो जाता है ।
उसी समय नजदीक में आहट पाकर जबरा भौंकने लगा । कई जानवारों का एक झुण्ड खेत में आया था । शायद नील गायों का झुण्ड था । उनके कूदने-दौडने की आवजें साफ कान में आ रही थी । फिर ऐसा मालूम हुआ कि वे खेत में चर रही हैं । जबरा तो भौंकता रहा । फिर भी हल्कू को उठने का मन नहीं हुआ ।
जबरा तो भौंकता। था । नील गायें खेत का सफाया किये डालती थी । और हल्कू गर्म राख के पास शांत बैठा हुआ था और धीरे-धीरे चादर ओढकर सो गया । उदर नील गायों ने रात भर चरकर खेती की सारी फसल को बरबाद किया था । सबेरे उसकी नींद खुली । मुन्नी ने उससे कहा-‘...तुम यहाँ आकर रम गये । और उधर सारा खेत सत्य नाश हो गया ।...’ दोनों खेत के पास आ गये । मुन्नी ने उदास होकर कहा-अब मजूरी करके पेट पालना पडेगा । हल्कू ने कहा-‘रात की ठण्ड में यहाँ सोना तो न पडेगा ।’ उसने यह बात बडी प्रसन्नता से कही, उसे ऐसी खेती करने से मजूरी करना बहुत हद तक आरामदायक है । मजूरी करने में झंझट तो नहीं हैं ।
विशेषताएँ –   
कहानी में कृषक जीवन की दुर्बलता और सबलता की झाँकी दिखाना है । कृषक याने किसान एक एक दृष्टि से सबल होता है । वह कडी मेहनत करता है । पैसा-पैसा काँट-छाँटकर बचा रखता है । फिर हर प्रकार के कष्ट सहन करता है । जाडे में ठिठुरता है,जमिंदार की गाली सुनता है,फिर भी काम करता जाता है । यही उसकी सबलता है । वह दुर्बल है, क्यों कि उसमें जमिंदार के अन्याय के विरुद्ध खडा होने की हिम्मत नहीं है । परिस्थितियाँ इसके लिए जिम्मेदार हैं । हल्कू ने अपनी मेहनत की कमाई जमिंदार को दी और खुद पूस की रात में ठण्ड से ठिठुरने लगा । यही उसकी कमजोरी है । परिस्थितियों की दबाव के कारण नील गायों से अपनी फसल की रक्षा भी न कर सका । अतः कहानी कार ने किसान की विवशता के लिए जिम्मेदारी शक्तियों के प्रति व्यंग्य किया है ।
प्रश्न-
1 ‘पूस की रात’ कहानी का सारांश लिखिए ।
२ भारतीय कृषकों के जीवन का स्पष्ट चित्र ‘पूस की रात’ में अंकित किया गया है । इस बात को सिद्ध कीजिए ।
३ हल्कू के जीवन की असहयता पर प्रकाश डालिए ।
टिप्पणी –
मुन्नी
हल्कू
जबरा
भारतीय किसान की गरीबी
एक अंक के प्रश्न
1.       ‘पूस की रात’ कहनी का लेखक कौन है ? प्रेम चन्द
२.      हल्कू ने कंबल के लिए कितना रुपए जमा किये थे ? तीन
३.      हल्कू की स्त्री खेती छोडकर क्या करने के लिए कहती है ?मजूरी
४.      हल्कू की स्त्री का नाम क्या है ? मुन्नी
५.      हल्कू की कुत्ता का नाम क्या है ? जबरा
६.      जाडा किसकी भाँति हल्कू की छाती कोदबाये हुआ था ? पिशाच की भाँति
७.      हल्कू के खेत की फसल को किस झुण्ड ने सत्य नाश किया था ?           नील गायों ने
८.      उजडे खेत को देखकर मुन्नी ने क्या कहा ? अब मजूरी करके माल्गुजरी भरनी पडगी







No comments:

Post a Comment

Post a Comment